जन्मदिन : प्रभास नई पीढ़ी के रजनीकांत हैं

प्रभास… केवल नाम ही काफी है. स्टंट, एक्शन, ड्रामा और रोमांस की फिल्मी दुनिया में एक ऐसा नाम, जो आज किसी परिचय का मोहताज नहीं है. दक्षिण में रजनीकांत, नागार्जुन, वैंकटेश, ममूटी और मोहनलाल की परंपरा को आगे ले जाने वाले प्रभास ने साल 2015 में एसएस राजमौली की फिल्म ‘बाहुबली: द बिगनिंग’ और साल 2017 में ‘बाहुबली: द कॉन्क्लूज़न’ में महेन्द्र बाहुबली और अमरेन्द्र बाहुबली का अद्भुत किरदार निभाया.

प्रभाष की यह दोनों फिल्में तेलुगु, तमिल, मलयालम और हिन्दी में एक साथ रिलीज हुईं. सिनेमाघरों कई हफ्ते हाउसफुल चलने वाली प्रभास की इस फिल्म ने सिनेमा के सारे रिकॉर्ड तोड़कर रख दिए. यही नहीं प्रभास की यह फिल्म भारतीय सिनेमा के इतिहास में अब तक की सबसे महंगी फिल्म है.

एक अनुमान के मुताबिक साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत ने साल 2010 में अपनी फिल्म ‘रोबोट’ लगभग 150 करोड़ रुपये में बनाई थी, वहीं ‘मगधीरा’ और ‘ईगा’ जैसी फिल्मों के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने वाले एसएस राजमौली ने फिल्म ‘बाहुबली’ को 160 करोड़ की लागत से बनाया.

राजमौली की इन्हीं दोनों फिल्मों ने प्रभास को रातोंरात सुपरस्टार बना दिया. यही नहीं इस फिल्म के बाद तो प्रभास के फिल्मों की बात छोड़िए शादी के लिए लड़कियों की लाइन लग गई. प्रभास को शादी के लिए लगभग 6000 लड़कियों के प्रस्ताव आए, लेकिन प्रभास आज भी कुंवारे हैं.

फिल्म की अपार सफलता के बाद बैंकॉक प्रतिष्ठित मैडम तुसाद म्यूजियम में प्रभास की ‘बाहुबली’ वाले रूप में मोम का पुतला भी लगाया गया. प्रभास दक्षिण भारत के ऐसे पहले सुपरस्टार हैं, जिनका मोम का पुतला मैडम तुसाद के म्यूजियम में लगा है.

प्रभास का जन्म 23 अक्टूबर 1979 में फिल्म निर्माता उप्पालापाटि सूर्यनारायण राजू के घर में हुआ. इनकी मां का नाम शिव कुमारी है और प्रभास दो भाई और एक बहन में सबसे छोटे हैं. शुरूआत में प्रभास बिजनेस करना चाहते थे, लेकिन प्रभास के अंकल कृष्णम राजू उप्पालापाटि, जो तेलगू के फेमस एक्टर थे, प्रभास को फिल्मों में लेकर आए.

प्रभास ने हैदराबाद के श्री चैतन्या कॉलेज से बीटेक की डिग्री ली. अंकल के कहने पर प्रभास ने एक्टिंग करनी शुरू की.

प्रभास ने अपने करियर की शुरूआत 2002 में फिल्म ‘ईश्वर’ से की. फिल्म दर्शकों को पसंद नहीं आई और वो फिल्म बुरी तरह से फ्लॉप हो गई. उसके बाद साल 2003 में प्रभास फिल्म ‘राघवेन्द्र’ में नजर आए, लेकिन ये फिल्म भी कोई खास बिजनेस नहीं कर पाई.

उसके बाद साल 2004 में प्रभास की फिल्म आई ‘वर्षम’. प्रभास की मेहनत रंग लाई और फिल्म सुपरहिट रही. फिल्म ‘वर्षम’ ने प्रभास को तेलगु फिल्म इंडस्ट्री में स्टैब्लिश कर दिया. एक्टिंग कि दुनिया में 11 साल इंतजार के बाद साल 2015 में प्रभास के हाथ लगी एसएस राजमौली का फिल्म ‘बाहुबली: द बिगिनिंग’ में महेन्द्र बाहुबली के रूप में दिखाई दिए.

प्रभास की यह फिल्म दुनिया भर में तीसरी सबसे बड़ी कमाई करने वाली फिल्म बनी. देश और दुनिया के फिल्म आलोचकों ने फिल्म और प्रभास की एक्टिंग की जमकर तारीफ की. साल 2017 में बाहुबली की अगली कड़ी में ‘बाहुबली: द कन्क्लूजन’ दुनिया भर रिलीज हुई. प्रभास को ‘बाहुबली श्रृंखला’ बनाने में लगभग 5 साल लग गए. इन 5 सालों में प्रभास ने किसी दूसरी फिल्म में काम नहीं किया.