करण जौहर बर्थडे स्पेशल: कौन सा सुपरस्टार है केजो का बेस्ट फ्रेंड?

करण जौहर जिन्‍हें लोग केजो के नाम से भी जानते हैं, आज 25 मई को उनका जन्मदिन है। तो चलिए आज केजो के 48 बर्थडे पर आप को बताते हैं इनसे जुड़ी कुछ खास बातें। कभी कभी हम कनफ्यूज हो जाते हैं कि इन्हें बॅालीवुड में कौन सा दर्जा दिया जाए क्योंकि ये सिनेमा से जुड़ी बहुत सी विधाओं में गुणवान हैं। करण जौहर भारतीय फिल्‍म डायरेक्‍टर, निर्माता, स्‍क्रीनराइटर, कास्‍ट्यूम डिजाइनर, अभिनेता और टेलीविजन पर्सनालिटी हैं जो कि हिन्‍दी फिल्‍मों में अपने बेहतरीन काम की वजह से जाने जाते हैं।
करण जौहर का जन्‍म मुंबई में हुआ था। उनके पिता का नाम यश जौहर है जो कि बॉलीवुड फिल्‍मों के निर्माता और धर्मा प्रोडक्‍शन्‍स के फाउनडर थे। उनकी मां का नाम हीरू जौहर है।  फिल्म मेकर करण जौहर 2017 में सरोगेसी के जरीये जुड़वां बच्चों के पापा भी बन चुके हैं। उनका एक बेटा और बेटी हैं, दोनों का नाम यश और रूही है।  करण ने बेटे का नाम पिता यश जौहर के नाम पर और बेटी का नाम मां हीरू जौहर के नाम के अक्षरों को मिलाकर रखा है।
करण ने मुंबई के ग्रीनलान्‍स हाई स्‍कूल और एचआर कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड इकनॉमिक्‍स से पढ़ाई की है। उन्‍होंने फ्रेंच में मास्‍टर्स की डिग्री हासिल की है।
https://youtu.be/FwTdhjaicjU
करण जौहर ने फिल्‍म ‘दिलवाले दुल्‍हनिया ले जाएंगे’ से सहाय‍क निर्देशक के तौर पर फिल्‍म इंडस्‍ट्री में शुरूआत की जो कि हिन्‍दी सिनेमा की लैंडमार्क फिल्‍मों में से एक मानी जाती है। इस फिल्‍म में उन्‍होंने शाहरूख के दोस्‍त का एक छोटा सा किरदार भी निभाया था। निर्देशक के तौर पर उनकी पहली फिल्‍म ‘कुछ कुछ होता है’ थी। जो ब्‍लाकबस्‍टर रही। यह फिल्‍म एक प्रेम त्रिकोण पर आधारित थी। फिल्‍म की काफी सराहना हुई और फिल्‍म ने कई पुरस्‍कार जीते। इसके बाद कभी खुशी कभी गम, कभी अलविदा ना कहना, माय नेम इज खान। इन सभी फिल्‍मों में करण ने उनके बेस्ट फ्रेंड माने जाने वाले शाहरूख खान को ही लीड रोल में कास्‍ट किया। इनके बाद आई उनकी निर्माता-निर्देशक के तौर पर फिल्‍मों में उन्‍होंने नई पीढ़ी को कास्‍ट करना शुरू कर दिया। कई फिल्‍मों में वे कैमियो में भी नजर आए आ चुके हैं।
मशहूर फिल्‍म-डायरेक्‍टर के तौर पर करण ने कुछ कुछ होता है, कभी खुशी कभी गम, कभी अलविदा ना कहना, माय नेम इज खान, स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर और बॉम्‍बे टॉकीज जैसी फिल्में दी है।
उन्होने निर्माता के तौर पर कल हो ना हो, काल, कभी अलविदा ना कहना, दोस्‍ताना, कुर्बान, वेक अप सिड, मास नेम इज खान, आई हेट लव स्‍टोरीज, वी आर फैलिली, अग्निपथ, एक मैं और एक तू, स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर, गिप्‍पी, ये जवानी है दीवानी, गोरी तेरे प्‍यार में, हंसी तो फंसी, 2 स्‍टेट्स, हंपटी शर्मा की दुल्‍‍हनिया, और उंगली जैसी फिल्में दी है।
वहीं लेखक के तौर पर उन्होने कुछ कुछ होता है, कभी खुशी कभी गम, कल हो ना हो, कभी अलविदा ना कहना, माय नेम इज खान, स्‍टूडेंट ऑफ द ईयर, बॉम्‍बे टॉकीज जैसी फिल्में दी है।
मशहूर फिल्म निर्माता और निर्देशक करण जौहर बॉलीवुड में बहुत नाम कमाया ही है इसके साथ ही वह टीवी पर भी छाए रहे

टीवी पर करण ने ‘कॉफी विद करण’ नाम का शो होस्‍ट किया जिसमें सेलिब्रिटीज से वे बातचीत करते हैं। साक्षात्‍कार देने वालों में अभिनेता, निर्देशक, निर्माता और हिन्‍दी फिल्‍म इंडस्‍ट्री के अन्‍य प्रतिष्ठित नाम हैं। यह शो काफी पापुलर हुआ और कई बार चर्चा का विषय बना रहा। इस शो में भी करन लगभग हर बड़े सेलिब्रिटी को बुला चुके हैं और उनसे बातें कर चुके हैं। इंडस्‍ट्री में लगभग सभी से अच्‍छे संबंध होने की वजह से उनके एक बार के बुलावे पर सभी चले आते हैं। करण इंडियाज गॅाट टेलेंन्ट नामक रियेलीटी शो के जज भी रह चुके है।वैसे तो करण जौहर अपने बिंदास बोल के कारण भी जाने जाते और इसी कारण कि वजह से वे विवादों में भी घिर चुके हैं केजो विवादों में तब घिर गए जब एआईबी रोस्‍ट नाम के यूट्यब शो में उन्‍होंने हिस्‍सा लिया और हजारों की भीड़ में उन्‍होंने अभद्र भाषा का प्रयोग किया और गालियां दीं। य‍ह शो तो मनोरंजन के लिए ही आयोजित हुआ था लेकिन बाद में कई संगठनों ने इसका और साथ ही साथ करन का भी जमकर विरोध किया।

केजो ने 2017 में अपने उपर ऑटोबायोग्राफी भी लिखी थी, अपने उपर लिखी बुक का title ‘एन अनसूटेबल बॉय’ रखा। करण जौहर भारत और विश्व के सबसे ज़्यादा कमाई करने वाले फिल्मो का
प्रोडक्शन करने के लिये फेमस है।