एक तस्वीरः जॉन एफ कैनेडी की हत्या

jackie kennedy, john f kennedy
जॉन एफ केनेडी अमेरिका के 35वें राष्ट्रपति हैं। (तस्वीर- हिस्ट्री इन पिक्चर्स से साभार)

चीनी कहावत है कि एक तस्वीर हजार शब्दों से ज्यादा बयाँ करती है। सोशल मीडिया पर भी पिछले कुछ सालों में कई तस्वीरें  वायरल हुई हैं। यानी डिजिटल एज में भी तस्वीरों की ताकत बरकरार है। फिल्म बीबो पर एक तस्वीर सिरीज में हम ऐसी ही तस्वीरों की चर्चा करेंगे जिनके पीछे कोई खास इतिहास या कोई खास संदेश होगा। इंटरनेट के महासागर में मौजूद इन तस्वीरों को छांट कर लाने के साथ ही हम उसके बारे में मुख्तसर ब्योरा देंगे। बाकी कहानी तो कहानी तो तस्वीर खुद बयाँ करेगी।

ऊपर लगी तस्वीर अमेरिका के 35वें राष्ट्रपति जॉन एफ केनेडी की हत्या के ठीक बाद की है। तस्वीर में उनकी पत्नी जैकी केनेडी अपनी जान बचाने के लिए भागती नजर आ रही हैं। केनेडी का एक सुरक्षा गार्ड उनके बचाव के लिए अपनी जान की परवाह न करता हुआ उनकी तरफ दौड़ता आ रहा है। आस-पास के राहगीन बंदूक की आवाज सुनते ही बदहवास हो चुके हैं। इस एक तस्वीर में इतिहास का एक ऐसा लोमहर्षक लम्हा कैद हो गया है।

जेएफके के नाम से मशहूर जॉन फिट्जगेराल्ड केनेडी का जन्म 29 मई 1917 को हुआ था। वो 1961 में अमेरिका के राष्ट्रपति बने। उन्हें अमेरिकी इतिहास के सबसे लोकप्रिय राष्ट्रपतियों में शुमार किया जाता है।  22 नवंबर 1963 को टेक्सास प्रांत के डलास में उन्हें गोली मार दी गई। अमेरिकी पुलिस ने केनेडी की हत्या के लिए ली हार्वे ओसवाल्ड नामक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। ओसवाल्ड की जैक रूबी नामक एक अन्य व्यक्ति ने गिरफ्तारी के दो दिन बाद ही हत्या कर दी। अमेरिकी सरकार आधिकारिक तौर पर मानती है कि जेएफके की हत्या हुई थी और उसमें ओसवाल्ड के अलावा कोई और शामिल नहीं था। लेकिन 1950-60 के दशक में अमेरिका और रूस के बीच जारी शीतयुद्ध को देखते हुए कुछ लोग जेएफके की हत्या के पीछे साजिश देखते हैं। मशहूर फिल्मकार आर्सन वेल्स ने केनेडी की हत्या पर जेएफके नाम से एक फिल्म बनायी है। फिल्म में वेल्स ने परोक्ष रूप से अमेरिका की हथियार लॉबी को राष्ट्रपति की हत्या के लिए जिम्मेदार दिखाया गया है।