एआर रहमान के बाद साउंड डिजाइनर रेसुल पूकुट्टी ने भी बॉलीवुड पर भाई-भतीजावाद का आरोप लगाया, कहा- ऑस्कर जीतने के बाद हिंदी फ़िल्मों में काम नहीं मिला

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद और बॉलीवुड गैंग को लेकर बहस चल रही है. सभी कलाकार अपनी-अपनी बातें सोशल मीडिया के ज़रिए सबके सामने रख रहे हैं.

अब ऑस्कर अवॉर्ड विजेता साउंड डिजाइनर रेसुल पूकुट्टी ने बॉलीवुड गैंग पर आरोप लगाते हुए कहा है कि ऑस्कर जीतने के बाद से ही उन्हें बॉलीवुड इंडस्ट्री में काम नहीं मिल रहा है.

इससे पहले ऑस्कर विजेता मशहूर गायक ए आर रहमान ने भी नेपोटिज्म, आउटसाइडर-इनसाइडर और पछपात जैसे मुद्दों पर अपनी बात रखी. उनका कहना था कि बॉलीवुड में एक गैंग है जो उनके बारे में अफवाहें फैलाकर उनको काम मिलने में रोड़े अटका रही है. इन अफ़वाहों की वजह से उन्हें काम नहीं मिल रहा है.

क्या है पूरा मामला ?

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ 24 जुलाई को रिलीज़ हुई. इस फ़िल्म के संगीत को लोगों ने ख़ूब पसंद किया. फ़िल्म में संगीत देने का काम एआर रहमान ने किया था.

एक इंटरव्यू में उनसे पूछा गया कि क्यों आजकल आप बहुत कम फ़िल्मों में काम कर रहे हैं? उन्होंने जवाब में कहा कि मैं अच्छी फिल्मों को मना नहीं करता हूं लेकिन मुझे लगता है कि कोई गैंग है जो गलतफहमी के चलते गलत खबरें फैला रहा है.

एआर रहमान की गैंग वाली बात करने के बाद शेखर कपूर ने ट्वीट करते हुए लिखा,

‘एआर रहमान, तुम्हें  अपनी प्रॉब्लम पता है क्या?  यह है कि तुमने ऑस्कर जीता. बॉलीवुड में इसे मौत को गले लगाना कहते हैं. इसका मतलब है तुम्हारे पास इतना टैलेंट है कि बॉलीवुड उसे संभाल नहीं सकता.’

इस ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए रहमान ने लिखा,

‘खोया हुआ पैसा वापस आ जाता है, शोहरत भी वापस मिल जाती है, लेकिन जिंदगी का बीता समय कभी वापस नहीं आता. शांति ! अब आगे बढ़ते हैं. हमारे पास करने के लिए कई बड़े काम हैं.’

इसके बाद, बॉलीवुड में काम न मिलने को लेकर रेसुल पूकुट्टी ने भी अपना दर्द बयां किया.

उन्होंने शेखर कपूर के ट्वीट का रिप्लाई करते हुए लिखा,

‘डियर शेखर कपूर, इस बारे में मुझसे पूछिए. मैं ब्रेकडाउन के करीब चला गया था, क्योंकि ऑस्कर जीतने के बाद हिंदी फिल्मों में कोई मुझे काम नहीं दे रहा था. रीजनल सिनेमा ने मेरा हाथ थामा.’

 

रेसुल ने आगे लिखा,

‘कुछ प्रोडक्शन हाउस ने मेरे मुंह पर कहा था कि ‘हमें आपकी जरूरत नहीं’, लेकिन फिर भी मैं अपनी इंडस्ट्री से प्यार करता हूं. इसने मुझसे सपने देखना सिखाया. कुछ मुट्ठी भर लोग ऐसे थे जिन्होंने मुझपर भरोसा दिखाया था. वो अब भी मुझपर भरोसा करते हैं. मैं आसानी से हॉलीवुड शिफ्ट हो सकता था लेकिन नहीं हुआ. इंडिया में मेरे काम ने मुझे ऑस्कर दिलाया. कई लोग ऐसे हैं जो आपका मनोबल गिराते हैं लेकिन मुझे अपने लोगों पर बहुत ज्यादा भरोसा है.’

रेसुल आगे लिखते हैं,

‘मेरी पोस्ट मेरी टाइमलाइन पर नहीं दिख रही है, इसलिए इसे दोबारा पोस्ट कर रहा हूं ताकि गलत अर्थ न निकाला जाए. नेपोटिज्म का डिस्कशन जिस दिशा में बढ़ रहा है, मैं उससे खुश नहीं हूं इसलिए शांति रखिए. मैं किसी को ब्लेम नहीं कर रहा हूं कि उन्होंने क्यों मुझे अपनी फिल्म में नहीं लिया.’

बता दें रसुल पूकुट्टी फ़िल्मों में साउंड डिजाइनर, वीडियो एडिटर और ऑडियो मिक्सिंग का काम करते हैं. साल 2009 में रेसुल को साउंड मिक्सिंग के लिए ऑस्कर अवॉर्ड मिला था. उन्होंने बॉलीवुड के अलावा हॉलीवुड, तमिल और मलयालम फ़िल्मों के लिए भी काम किया है.