आमिर खान के ‘तुर्की प्रेम’ से लोगों में भरा गुस्सा, जमकर हुए ट्रोल

आमिर खान की फिल्म लाल सिंह चड्डा आने वाली और उससे पहले बवाल से यह पब्लिसिटी स्टंट लग रहा है

तुर्की के राष्ट्रपति की पत्नी से मुलाकात के बाद आमिर खान ट्रोल किए गए
तुर्की के राष्ट्रपति की पत्नी से मुलाकात के बाद आमिर खान ट्रोल किए गए

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान की पत्नी और प्रथम महिला एमान एर्दोगान की मुलाकात बॉलीवुड स्टार आमिर खान के साथ होने के बाद से ही सोशल मीडिया पर आमिर खान की खूब खिंचाई हो रही है.

दरअसल, आमिर अपनी अगली फिल्म ‘लाल सिंह चढ्डा’ की शूटिंग के लिए तुर्की गए हुए हैं, जहां वह शनिवार को तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगान की पत्नी एमान एर्दोगान से मिले. इसकी जानकारी खुद एर्दोगान ने ट्वीट के माध्यम से दिया था.

वह अपने इस ट्वीट में लिखती हैं “इस्तांबुल में दुनिया के जाने-माने एक्टर, डायरेक्टर, फ़िल्ममेकर आमिर खान से मुलाकात हुई. मुझे ये जानकर खुशी हुई कि आमिर खान ने अपनी नई फिल्म ‘लाल सिंह चढ्डा’ की शूटिंग तुर्की के अलग-अलग हिस्सों में करने का फैसला किया है.”

बता दें कि तुर्की के राष्ट्रपति हमेशा से ही अपनी कट्टर इस्लामिक विचारधारा और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत की मुखालफत के लिए जाने जाते हैं.

इसी साल फरवरी, 2020 में दिल्ली दंगो में भी उन्होंने विवादित ट्वीट करते हुए कहा “भारत ऐसा देश बन गया है जहां नरसंहार हो रहे हैं. कैसे नरसंहार? मुस्लिमों का नरसंहार, किसके द्वारा? हिंदुओ के द्वारा.”

वह यहीं नहीं रुके और उसी महीने अनुच्छेद 370 पर भारत का विरोध करते हुए एक और ट्वीट लिखा, “आज कश्मीर हमारे लिए उतना ही अहम है जितना कि पाकिस्तानियों के लिए. न्याय और निष्पक्षता के आधार पर मुद्दे का हल सभी के हित में है तुर्की कश्मीर मसले पर न्याय, शांति और संवाद के साथ है”.

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भारत का हमेशा साथ देने वाला देश इज्राएल के प्रधानमंत्री बेजामिन नेतन्याहू, जब साल 2018 में भारत आए थे तो बॉलीवुड की तमाम हस्तियां उनसे मिली थी, लेकिन तब आमिर खान, शाहरुख खान और सलमान खान ने उस समारोह से दूरी बना ली थी. इस पर भी आमिर काफी ट्रोल हुए थे.

भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने आमिर खान पर तंज कसते हुए एक ट्वीट में लिखा,”तो आखिरकार आमिर खान के बारे में मैं सही साबित हुआ. आमिर खान भी उन तीनों खान में से एक हैं.”

स्वामी के इस ट्वीट पर लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रिया आ रही है.

बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब आमिर की फिल्म रिलीज होने वाली हो और बवाल शुरू हो गया हो. इससे पहले भी आमिर की फिल्म ‘पीके’ ट्रोलर्स के खूब निशाने पर रही और हिन्दू संगठनो ने भी फिल्म के कुछ दृश्यों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था.

2015 में असहिष्णुता के मुद्दे पर आमिर ने कहा था कि उनके परिवार को भारत में डर लगता है. जिसपर आमिर और उनकी पत्नी को जमकर लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा था. यही कारण था कि 2017 में आमिर को ‘इंक्रेडिबल इंडिया’ के ब्रांड एम्बेस्डर से भी हटा दिया गया था.

वैसे, हाल ही में तुर्की की प्रसिद्ध हागिया सोफिया जो पहले चर्च, फिर मस्जिद हो गई, इसके बाद म्यूजि़यम और अब उसे फिर से मस्जिद बना दिया गया. ऐसे में, एक तरफ कट्टर इस्लामिक विचारधारा वाला देश तुर्की और वहीं दूसरी ओर लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष भारत है.

कुछ लोगों का यह भी कहना है कि इतने सब के बाद आमिर की यह मुलाकात किसी बेईमानी से कम नहीं है.