शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे, 90 वर्ष की उम्र में अमेरिका में हुआ निधन

शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे, 90 वर्ष की उम्र में अमेरिका में हुआ निधन

ना जाने 2020 और कितनी बुरी खबरों से सब के दिल तोड़ेगा। ऐसे में आज जाने-माने शास्त्रीय गायक पंडित जसराज का निधन हो गया। उनका अमेरिका के न्यू जर्सी में निधन हो गया है। वह 90 वर्ष के थे। पंडित जसराज के निधन के समाचार के बाद संगीत प्रेमियों में शोक की लहर है। सोशल मीडिया पर उन्हें याद करते हुए लगातार श्रद्धांजलि दी जा रही है। उनका जन्म 28 जनवरी 1930 को हुआ था। कोरोना वायरस महामारी के कारण लॉकडाउन के बाद से पंडित जसराज न्यूजर्सी में ही थे।

 

पंडित जसराज के परिवार ने एक बयान में कहा, बहुत दुख के साथ हमें सूचित करना पड़ रहा है कि संगीत मार्तंड पंडित जसराज जी का अमेरिका के न्यूजर्सी में अपने आवास पर आज सुबह 5 बजकर 15 मिनट पर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया।
उन्होंने कहा, हम प्रार्थना करते हैं कि भगवान कृष्ण स्वर्ग के द्वार पर उनका स्वागत करें और वह अपना पसंदीदा भजन ‘ओम नमो भगवते वासुदेवाय’ उन्हें समर्पित करें। हम उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं। आपकी प्रार्थनाओं के लिए धन्यवाद। बापूजी जय हो।

 

बतांदें कि इस साल जनवरी में अपना 90वां जन्मदिन मनाने वाले पंडित जसराज ने आखिरी प्रस्तुति नौ अप्रैल को हनुमान जयंती पर फेसबुक लाइव के जरिए वाराणसी के संकटमोचन हनुमान मंदिर के लिए दी थी। मेवाती घराने के पंडित जसराज खयाल गायकी के शीर्षस्थ गायक थे। उनकी बन्दिशें बहुत लोकप्रिय हैं। अमेरिका के न्यू जर्सी में भी उनका घर है और वहां उनका संगीत का विद्यालय भी चलता है। जसराज भारत के प्रसिद्ध शास्त्रीय गायकों में से एक थे। जसराज जब चार वर्ष उम्र में थे तभी उनके पिता पण्डित मोतीराम का देहांत हो गया था और उनका पालन पोषण बड़े भाई पंडित मणिराम ने किया।

 

जसराज जी ने संगीत दुनिया में 80 वर्ष से अधिक बिताए और कई प्रमुख पुरस्कार प्राप्त किए। शास्त्रीय और अर्ध-शास्त्रीय स्वरों के उनके प्रदर्शनों को एल्बम और फिल्म साउंडट्रैक के रूप में भी बनाया गया है। जसराज ने भारत, कनाडा और अमेरिका में संगीत सिखाया है और उनके कुछ शिष्य नामी संगीतकार भी बने हैं।