इस वजह से कंगना रनौत के खिलाफ FIR दर्ज किया गया है

मोहम्मद साहिल अशरफ अली सैय्यद नाम के एक शख्स ने कंगना और उनकी बहन रंगोली के खिलाफ बांद्रा कोर्ट में एक अर्जी डाली थी. इस अर्जी में लिखा था कि कंगना रनौत अपने ट्वीट के जरिए बॉलीवुड में हिंदू-मुस्लिम समुदाय के बीच नफरत फैलाकर झगड़ा कराने की कोशिश कर रही हैं.

Kangana Ranaut, Filmbibo
बाॅलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत और उनकी बहन रंगोली के खिलाफ बांद्रा पुलिस स्टेशन में एफआईआर (FIR) दर्ज किया गया है.
बाॅलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) और उनकी बहन रंगोली  (Rangoli Chandel) के खिलाफ बांद्रा पुलिस स्टेशन में एफआईआर (FIR) दर्ज किया गया है. कुछ दिनों में पूछताछ के लिए समन भेजा जाएगा. दरअसल, कंगना और उनकी बहन रंगोली के खिलाफ बांद्रा कोर्ट (Bandra Court) में एक याचिका दायर की गई थी. याचिका के मुताबिक कंगना और रंगोली देश में सांप्रदायिक तनाव पैदा कर रही हैं. दो समुदास के बीच विवाद पैदा कर रही हैं. इस याचिका पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कंगना रनौत पर केस दर्ज करने के लिए मुंबई पुलिस (Mumbai Police) को आदेश दिए थे.

क्या है पूरा मामला?

मोहम्मद साहिल अशरफ अली सैय्यद नाम के एक शख्स ने कंगना और उनकी बहन रंगोली के खिलाफ बांद्रा कोर्ट में एक अर्जी डाली थी. इस अर्जी में लिखा था कि कंगना रनौत अपने ट्वीट के जरिए बॉलीवुड में हिंदू-मुस्लिम समुदाय के बीच नफरत फैलाकर झगड़ा कराने की कोशिश कर रही हैं.

आगे लिखा है कि कंगना रनौत पिछले कुछ महीनों से लगातार बाॅलीवुड पर भाई-भतीजावाद का आरोप लगा रही हैं. इससे बाॅलीवुड का अपमान हो रहा है. कलाकारों के बीच फूट डालने की कोशिश जा रही है. कंगना के आपत्तिजनक ट्वीट की वजह से बाॅलीवुड को काफी आहत पहुंचा है.

इन धाराओं का जिक्र है FIR की काॅपी में

अभिनेत्री कंगना पर भारतीय दंड सहिंता (IPC), 1860 की धारा-295A, 153A और 124A के तहत एफआईआर दर्ज की गई है. IPC की धारा-295A के मुताबिक ऐसे काम अपराध माने जाएंगे, जहां कोई व्यक्ति भारत के नागरिकों के किसी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को आहत पहुंचाता है या पहुंचाने की कोशिश करता है.

IPC की धारा-153A कहता है कि धर्म, मूलवंश, भाषा, जन्म-स्थान, निवास-स्थान आदि के आधार पर नफरत फैलाना अपराध है. वहीं IPC की धारा-124A के तहत केस तब बनता है, जब कोई व्यक्ति देश के खिलाफ लिखकर, बोलकर, संकेत देकर या फिर अभिव्यक्ति के जरिए नफरत फैलाता है या कोशिश करता है. इसके तहत दोषी पाए जाने पर उम्र कैद की सजा हो सकती है.

बांद्रा के मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट जयदेव वाय घुले का कहना है कि जल्द ही पूछताछ के लिए कंगना को बुलाया जाएगा. उन्होंने मुंबई पुलिस को CrPC, 1973 की धारा-156(3)( जांच के लिए मजिस्ट्रेट के पास आदेश देने का अधिकार) के तहत जांच करने के आदेश दे दिए हैं.

कंगना ने इस FIR पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया,

“कौन-कौन नवरात्रि पर व्रत रख रहा है? मैं रख रही हूं. ये हैं आज के नवरात्रि पर्व पर खींची गईं तस्वीरें. इसी बीच मेरे ऊपर एक और FIR दर्ज हो गई है. महाराष्ट्र की पप्पू सेना मुझे लेकर कुछ ज्यादा जुनूनी हो गई है. ज्यादा याद मत करो, मैं जल्द वहां आ रही हूं.”