गुुरु दत्त: बिछड़े से सभी बारी बारी…


गुरु दत्त की जयंती (9 जुलाई) पर मंजीत ठाकुर की विशेष पेशकश

SHARE
Previous articleसंजीव कुमार: एक ऐसा कलाकार जिसने अदाकारी में वक़्त खरीदा
Next articleसंजीव कुमार: बहुत अपना सा लगने वाला अभिनेता
Editor at filmbibo. झारखंड के मधुपुर में जन्मे मंजीत ठाकुर ने पत्रकारिता आइआइएमसी से और फिल्म रसास्वाद पाठ्यक्रम एफटीआइआइ से सीखा. करियर की शुरुआत की नवभारत टाइम्स से. डीडी न्यूज में एक दशक से अधिक समय तक काम किया और फिर इंडिया टुडे पत्रिका में. बीसेक डॉक्युमेंट्री बना चुके हैं. दो टीवी धारावाहिक भी लिखे हैं. एक ऑडियो नॉवेल लिखा है जो जल्द ही स्टोरीटेल पर आने वाला है और दूसरे पर काम जारी है. पूरा देश और कई महादेश घूम चुके हैं. नीलेश मिसरा के रेडियो शो के लिए 40 से अधिक कहानियां लिखी हैं. फिल्मों के शौकीन, विदेशी फिल्मों और समांतर सिनेमा के साथ बॉलीवुड की कमर्शियल फिल्मों के भारी शौकीन.