मिर्ज़ापुर 2 के फिल्म निर्माताओं ने मांगी हिन्दी के सबसे बड़े पल्प फिक्सन के लेखक सुरेन्द्र मोहन पाठक से माफ़ी

हिन्दी के सुप्रसिद्ध लेखक सुरेन्द्र मोहन पाठक ने मिर्ज़ापुर 2 के निर्माता को भेजा नोटिस।

हाल ही में अमज़ोन प्राइम पर रिलीज हुई वेब सिरीज़ ‘मिर्ज़ापुर 2’ काफी चर्चे में है। ‘मिर्ज़ापुर 2’ के फिल्म निर्माताओं ने हिन्दी के सबसे बड़े पल्प फिक्सन के लेखक सुरेन्द्र मोहन पाठक से माफ़ी मांगी है। इस माफ़ीनामे में मिर्ज़ापुर 2 क्राइम थ्रिलर वेब सिरीज़ के स्क्रिप्ट रायटर पुनीत कृष्णा ने अपने प्रॉडक्शन कंपनी एक्सेल एंटर्टेंमेंट के टिवीटर अकाउंट से माफीनामा साझा किया।
मिर्ज़ापुर सीज़न 2 के एक सीन में सुरेन्द्र मोहन पाठक कि किताब धब्बा से सत्यानंद त्रिपाठी के किरदार निभाने वाले कुलभूषण खरबन्दा नें एक अंश पढ़ा है। 2010 में प्रकाशित किताब ‘धब्बा’ को मिर्ज़ापुर 2 के एक सीन में ग़लत तरह से दिखाया गया है।

”फिल्म में किताब से जिस अंश का पाठ किया गया है वो पूरी तरह से सेक्सुयल है जो कि इस किताब में बिलकुल नहीं है। मैं पिछले 60 सालों से पल्प फिकशन लिख रहा हूँ। मेरी लिखी किताबें सालों से बेस्ट सेलर रही हैं लेकिन मैंने कभी अपनी किताबों में सेक्स और वोइलेंस नहीं लिखा है। लोग यह देख सकते हैं और सोच सकते हैं कि यह मेरे पूरे जीवन का काम है।” सुरेन्द्र मोहन पाठक ने कहा।

https://twitter.com/excelmovies/status/1322128440078659584/photo/1

एक्सेल एंटर्टेंमेंट ने सुरेन्द्र मोहन पाठक से माफ़ी मांगते हुए कहा कि किताब से असंबन्धित अंश के पाठ से हमने लेखक और उनके फैंस के भावनाओं को ठेस पहुंचाया है।

इस माफीनामे में यह भी लिखा है कि हम इस सीन में जल्द ही सुधार कर देंगे। हम किताब के कवर को ब्लार कर देंगे या फिर वो वॉइस ओवर हटा दिया जाएगा तीन हफ्तों के अंदर।
सुरेन्द्र मोहन पाठक हिन्दी के वरिष्ठ लेखक हैं। लंबे समय से वो पल्प फिकशन लिखते आ रहे हैं। ज़्यादातर उनकी किताबें बेस्ट सेलर में रहती है।