Paresh Rawal New NSD Chief: पूर्व बीजेपी एमपी और एक्टर परेश रावल ‘नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा’ के बने नये चेयरमैन

भारतीय सिनेमा में अपनी अदाकारी से ख़ास पहचान और मुकाम हासिल करने वाले एक्टर परेश रावल को नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा (NSD) का नया चेयरमैन नियुक्त किया गया है। परेश रावल ने अपने करियर में कई फ़िल्मों में यादगार भूमिकाएं निभायी हैं।

NSD ने अपने ट्विटर एकाउंट से इस बात की जानकारी दी गयी है। NSD ने बताया की हमें यह सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि भारत के आदरणीय राष्ट्रपति ने जाने-माने कलाकार पद्मश्री परेश रावल को एनएसडी का नया चेयरमैन नियुक्त किया है। एनएसडी परिवार दिग्गज कलाकार का स्वागत करता है। उनके दिशा-निर्देशन में एनएसडी नई ऊंचाइयों को छुएगा। बतादें कि परेश रावल से पहले राजस्थान के प्रख्यात कवि और थिएटर पर्सनैलिटी अर्जुन देव चरण एनएसडी के चेयरमैन थे।

 

एनएसडी ने इंडस्ट्री को दिये हैं कई दिग्गज

बता दें कि नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा संगीत नाटक अकादमी की एक ईकाई है, जिसकी स्थापना 1959 में हुई थी। 1975 में शिक्षा एवं सांस्कृतिक मंत्रालय के अधीन इसे स्वायत्तशासी संस्था घोषित किया गया था। डॉ. केवी राजमन्नार इसके पहले चेयरमैन थे, जिनका कार्यकाल 1959 से 1961 तक रहा था। वेटरन एक्टर अनुपम खेर 2001 से 2004 तक इसके अध्यक्ष रह चुके हैं। नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में ड्रामाटिक्स की पढ़ाई होती है।
हिंदी सिनेमा के कई जाने-माने कलाकारों ने एनएसडी से शिक्षा हासिल की है। इनमें ओम पुरी, नसीरूद्दीन शाह, नवाज़उद्दीन सिद्दीकी, इरफ़ान ख़ान, पीयूष मिश्रा, अनुपम खेर, यशपाल शर्मा, रत्ना पाठक शाह जैसे दिग्गज नाम शामिल हैं।

 

परेश रावल जीत चुके हैं कई नेशनल अवॉर्ड

परेश रावल ने अपने 30 साल के करियर में एक से बढ़कर एक जबरजस्त भूमिकाएं की हैं। उन्होंने फ़िल्मों में अपनी पारी 1985 में आयी अर्जुन से शुरू की थी। करियर के शुरुआती दौर में परेश ने फ़िल्मों में कई नेगेटिव भूमिकाएं निभायीं है। उन्होंने कॉमिक किरदारों मे भी खुद को बखुबी ढाल कर दर्शकों को खुब गुदगुदाया है।

 

परेश रावल की यादगार फ़िल्मों में राम लखन, अंदाज़ अपना अपना, हेराफेरी, आंखें, मालामाल वीकली, गोलमाल, भूल भुलैया, वेलकम, ओह माई गॉड और संजू शामिल हैं। 2019 में परेश उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक और मेड इन चाइना में नज़र आये थे।

 

1994 में वो छोकरी और सर में बेहतरीन अभिनय के लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का नेशनल फ़िल्म अवॉर्ड प्रदान किया गया था। 2014 में उन्हें पद्मश्री से नवाज़ा गया। 2014 में ही बीजेपी के टिकट पर जीतकर वो संसद पहुंचे। परेश रावल को इस नई उपलब्धि के लिए बधाइयां दी जा रही हैं।