राजेश खन्ना हिन्दी सिनेमा का पहला सुपरस्टार

राजेश खन्ना (जन्म: 29 दिसम्बर 1942 – मृत्यु: 18 जुलाई 2012) बेहतरीन भारतीय बॉलीवुड अभिनेता, निर्देशक व निर्माता थे। उन्होंने अपने जीवन में कई हिन्दी फ़िल्में बनायीं और राजनीति में भी प्रवेश किया। वे नई दिल्ली लोक सभा सीट से पाँच वर्ष 1991-96 तक कांग्रेस पार्टी के सांसद रहे। हालाकिं बाद में उन्होंने राजनीति से सन्यास ले लिया।
आज उनकी पुण्यतिथि पर जाने उनके फिल्मो और अर्वाड से जुड़ी कुछ खास बातें
राजेश खन्ना ने अपने बॅालीवुड करियर में कुल 180 फ़िल्मों और 163 फीचर फ़िल्मों में काम किया, 128 फ़िल्मों में मुख्य भूमिका निभायी, 22 में दोहरी भूमिका के अतिरिक्त 17 छोटी फ़िल्मों में भी काम किया। अपने जबरज्सत अभिनय के कारण वे बॉलीवुड का सुपरस्टार कहे जाने लगे। उन्हें फ़िल्मों में सर्वश्रेष्ठ अभिनय के लिये तीन बार फिल्म फेयर पुरस्कार मिल चुका है। बंगाल फ़िल्म जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा हिन्दी फ़िल्मों के सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार भी अधिकतम चार बार उनके ही नाम रहा। 2005 में उन्हें फ़िल्मफेयर का लाइफटाइम अचीवमेण्ट अवार्ड दिया गया था। राजेश खन्ना हिन्दी सिनेमा के पहले सुपर स्टार थे। 1966 में उन्होंने आखिरी खत नामक फ़िल्म से अपने अभिनय की शुरुआत की। राज़, बहारों के सपने, आखिरी खत – उनकी लगातार तीन कामयाब फ़िल्में रहीं। उन्होंने 1966-1991 में 74 गोल्डन जुबली हिट फ़िल्में और 1966-1991 में 22 सिल्वर जुबली हिट फ़िल्में कि। उन्होंने 1966-1996 में 9 सामान्य हिट फ़िल्मे मे काम किया। उन्होंने 1966-2013 में 163 फ़िल्म कि और 105 हिट रहीं।