मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे : सुशांत सिंह राजपूत की मौत के दोषी को हम सजा देंगे, इस मामले को महाराष्ट्र बनाम बिहार का मुद्दा न बनाएं

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की 14 जून को उनके मुंबई स्थित बांद्रा के अपार्टमेंट में मौत हो गई थी. इस मौत में संदेह के चलते मुंबई पुलिस जांच कर रही है. 40 से अधिक लोगों का बयान भी दर्ज करवाया जा चुका है. लेकिन कई लोग इस मामले की जांच सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) को ट्रांसफ़र करने की मांग कर रहे हैं.

इस पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि वह बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच करने में मुंबई पुलिस की दक्षता पर सवाल उठाने की कोशिशों की निंदा करते हैं.

आगे बताया कि महाराष्ट्र राज्य पुलिस इस मामले की जांच करने में सक्षम है. थोड़ा धैर्य रखिए. दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा.

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा,

“मुंबई पुलिस अक्षम नहीं है. अगर किसी के पास कोई सबूत है तो वे उसे हमारे पास लाएं. हम दोषियों से पूछताछ करेंगे. इस मामले में जो भी दोषी होगा, उसे हम सजा देंगे. कृपया करके, इस मामले को महाराष्ट्र बनाम बिहार न बनाएं. दोनों राज्यों के बीच दरार न डालें.”

इस मामले में भारतीय जनता पार्टी के विधायक अतुल भातखलकर ने गंभीर आरोप लगाते हुए इसकी सीबीआई से जांच करवाने की मांग की है. इसको लेकर उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को एक पत्र भी लिखा है. यह जानकारी उन्होंने ट्वीट के ज़रिए दी है.

पत्र में भातखलकर ने लिखा है कि मुंबई में रहने वाले महाराष्ट्र सरकार के एक युवा मंत्री के हित, इस मामले से जुड़े हैं. इसीलिए मुंबई पुलिस इस मामले की ठीक से जांच नहीं कर रही है.

इस मामले की जानकारी देते हुए भाजपा नेता ने ट्विटर पर एक वीडियो संदेश भी जारी किया है.

इससे पहले भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी लंबे समय से सुशांत की आत्महत्या के मामले की छानबीन करने की मांग कर रहे हैं. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने सुशांत की मौत के मामले पर मुंबई पुलिस पर सही तरह से जांच न करने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि मुंबई पुलिस अंडरवर्ल्ड के इशारों पर काम कर रही है.

महाराष्ट्र राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट करते हुए लिखा कि बड़ी संख्या में लोग चाहते हैं कि सुशांत की मौत के मामले की छानबीन केंद्रीय जांच ब्यूरो करे, लेकिन राज्य सरकार की इच्छा ऐसी नहीं है.

उद्धव ठाकरे ने विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस की इन बातों की आलोचना करते हुए कहा कि भाजपा नेता मामले की जांच करने में मुंबई पुलिस की विश्वसनीयता पर संदेह जता रहे हैं, जबकि वह खुद पांच साल तक मुख्यमंत्री रह चुके हैं. यह वही पुलिस है, जिसके साथ उन्होंने पांच वर्ष तक काम किया है.

आगे ठाकरे कहते हैं “मुंबई पुलिस की क्षमता पर सवाल उठाना उनका अपमान करना है. मैं इसकी निंदा करता हूं.”

उद्धव ठाकरे के इस बयान का अभिनेत्री कंगना रनौत ने विरोध किया. उनपर भड़क गईं.

उनकी टीम ने ट्वीटर पर ट्वीट करते हुए लिखा,

सुशांत के परिवार और  उनकी दोस्त स्मिता ने पुष्टि की है कि वह इंडस्ट्री को छोड़ना चाहता था. यहां उसका दम घुटता था. वह डरा हुआ था. वह लगातार कहता रहता था कि वे लोग मुझे मार देंगे. इन बातों पर बिना ध्यान दिए, दुनिया के सबसे अच्छे मुख्यमंत्री ने उसकी मौत को 2 मिनट में आत्महत्या कह दिया. और बॉलीवुड गैंग से जुड़े गिद्धों ने मानसिक बीमारी का प्रचार करना शुरू कर दिया.

आगे लिखा कि कंगना को चुप कराने के लिए कई चीजें की जा रही हैं. बॉलीवुड गैंगस्टर और राजनीतिक माफिया ने इस मर्डर के लिए हाथ मिलाया है. कंगना किसी चीज से नहीं डरती है. मौत से भी नहीं डरती. इसलिए छोटी-मोटी चालें चलने की जरूरत नहीं है.