सुशांत की मौत की जांच करने पहुंचे बिहार के अधिकारी को किया गया ज़बरन क्वारैंटाइन, नीतीश बोले- जो हुआ, गलत हुआ

दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में रोज़ नए-नए मोड़ आ रहे हैं.  इस मामले की जांच को लेकर बिहार पुलिस और मुंबई पुलिस के बीच खींचातानी चल रही है.

इस मामले की जांच करने पहुंचे बिहार के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को बीएमसी (बृहन्मुंबई महनगरपालिका) ने क्वारैंटाइन कर दिया है. बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के मुताबिक़ आईपीएस विनय तिवारी को ज़बरन क्वारैंटाइन किया गया है.

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के मुताबिक़ आईपीएस विनय तिवारी के हाथ पर क्वारैंटाइन की मुहर लगाकर, अगले आदेश तक क्वारैंटाइन रहने के लिए कहा गया है.

आगे बताया कि मुंबई पुलिस नहीं चाहती कि सच सबके सामने आए. अब विनय तिवारी किसी से नहीं मिल सकते, तो जांच कैसे करेंगे?

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने ट्वीटर पर ट्वीट करते हुए लिखा ,

“आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी पुलिस टीम का नेतृत्व करने के लिए ऑफिशियल ड्यूटी पर पटना से मुंबई पहुंचे. पहुंचते ही उन्हें रात 11 बजे बीएमसी के अधिकारियों ने जबरन क्वारैंटाइन कर दिया. उनकी आईपीएस मेस में रहने की व्यवस्था तक नहीं की गई. उन्हें गोरेगांव के एक गेस्ट हाउस में रखा गया है.”

गुप्तेश्वर पांडेय ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा,

“आईपीएस विजय तिवारी सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच के लिए गए हैं. लेकिन अब उन्हें घर से बाहर निकलने तक नहीं दिया जा रहा है. ऐसे में जांच नहीं कर पाएंगे.”

इस पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जो हुआ, ठीक नहीं हुआ. इस पर हम मुबंई के डीजीपी से बात करेंगे.

इस पर बीएमसी ने बताया कि उन्होंने सरकारी आदेशों का पालन करते हुए और नियम के के अनुसार विनय तिवारी को क्वारैंटाइन में रखा गया है. अगर उनमें किसी तरह के कोरोना के लक्षण नजर आते हैं तो आने वाले समय में उनका स्वैब टेस्ट भी करवाया जाएगा.

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने एक निजी चैनल के साथ सुशांत सिंह की मौत के मामले में बात की. बताया कि रिया चक्रवर्ती तीन-चार दिनों से लापता है. उनका फोन भी बंद है.

आगे कहते हैं कि हम चाहते हैं रिया ख़ुद से सामने आएं और जांच में सहयोग दें. हम उनसे कुछ सवाल पूछना चाहते हैं. ऐसा नहीं है कि उनके सामने आते ही हम उन्हें सूली पर लटका देंगे.

आगे कहते हैं “इमोशनल वीडियो डालने से कुछ नहीं होता. आप अगर सच्चे हैं तो पुलिस से आकर बात करें और सच जानने में उनका सहयोग दें. सुशांत मामले में निष्पक्ष जांच होनी चाहिए.

इससे पहले डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय के मुताबिक़ मुंबई पुलिस इस मामले में सहयोग नहीं कर रही है. उन्होंने न तो पोस्टमाॅर्टम रिपोर्ट हमें सौंपी, न सीसीटीवी फुटेज और न ही कोई सूचनाएं, जो अब तक जांच के दौरान सामने आईं.

वो आगे कहते हैं ”सुशांत केस बड़ी मिस्ट्री हो गई है. इससे पर्दा उठाना ही होगा. इस मामले की सच्चाई जल्द सबके सामने आनी चाहिए. बिहार पुलिस जांच के लिए सक्षम है. फिर भी अगर परिवार के लोग चाहते हैं तो सीबीआई जांच के लिए आवेदन कर सकते हैं. इस मामले में जिन्हें आरोपी बनाया गया है, वे भागते फिर रहे हैं.”

हालांकि आईपीएस विनय तिवारी रविवार रात को मुंबई हवाई अड्डा पहुंचे. उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि मुंबई पुलिस और बिहार पुलिस में पूरा कोआर्डिनेशन है. पूरा सहयोग कर रहे हैं.

तिवारी ने आगे कहा कि ऐसा नहीं है कि कोआर्डिनेशन नहीं हो रहा था. बीते एक सप्ताह से हमारी टीम यहां काम कर रही है. फिर भी जांच की एक प्रक्रिया होती है और उसका अगला पड़ाव सुपरविजन करना होता है. इसके लिए किसी सीनियर अफसर को आना पड़ता है, तो  उसी क्रम में उन्हें भेजा गया है.

बता दें 14 जून को दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के मुंबई के बांद्रा के अपार्टमेंट में मौत हो गई थी. इसकी जांच मुंबई पुलिस कर रही है. लेकिन इसी बीच सुशांत के परिवार ने सुशांत की गर्लफ़्रेंड रिया चक्रवर्ती पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए पटना में एफआईआर दर्ज कराई. लेकिन रिया चक्रवार्ती ग़ायब हो गई हैं. न फ़ोन उठा रही है और न ही पुलिस के सामने आ रही हैं.