जानिए इंसानी कंप्यूटर शकुंतला देवी के बारे में वह बातें जो फिल्म में नहीं हैं

क्या आपको पता है कि इंसानी कंप्यूटर कहे जाने के साथ ही शकुंतला देवी ने होमोसेक्सुआलिटी पर किताब भी लिखी है

शकुंतलदेवी का गाना हुआ रिलीज़।

ह्यूमन कंप्यूटर के अलावा एक किताब की लेखिका भी थीं शकुंतला देवी

5 अक्टूबर, 1950 के दिन बीबीसी के जर्नलिस्ट लेज़ली मिशेल एक भारतीय महिला के साथ एक शो होस्ट कर रहे थे। इस शो में वे इस महिला से कुछ सवाल पूछ रहे थे, जो कि गणित से जुड़ा हुआ था।

सारे सवालों के जवाब तो सही जा रहे थे लेकिन एक सवाल का जवाब बीबीसी के पास मौजूद जवाब से थोड़ा-सा अलग था। बाद में जब थोड़ी और तस्दीक की गयी तो अंततः वो जवाब ही सही निकला, जो इस भारतीय महिला ने बताया था।

ये भारतीय महिला जो मिशेल के इन सवालो का जवाब दे रही थी, उसका नाम था शकुंतला देवी।

नाम अब आपको थोड़ा जाना-पहचाना लगेगा क्योंकि अमेजन प्राइम ओटीटी प्लेटफॉर्म पर एक फिल्म आ रही है जो इसी महिला के जीवन पर आधारित है।

शकुंतला देवी को “ह्यूमन कंप्यूटर” भी कहा जाता था, क्योंकि इनके गणित के सवालो को हल करने की गति कंप्यूटर से भी तेज थी. और यह खूबी बचपन से ही इनके अंदर थी।

होमोसेक्सुअलिटी पर किताब लिखने वाली पहली भारतीय

सिर्फ गणित के सवालों का हल करना ही शकुंतला देवी के जीवन का एकमात्र आयाम माना जाय तो ये गलत होगा।

1977 में होमोसेक्सुअलिटी पर बात करती हुई पहली किताब ‘द वर्ड ऑफ होमोसेक्सुअल्स’ आई। इस किताब के बारे में वे बताती हैं कि इस किताब को लिखने की उनकी एकमात्र योग्यता एक इंसान होना है। ये किताब एक इंसान के नज़रिये से इंसानो के लिए ही लिखी गयी है।

शकुंतला देवी इस विषय के बारे में लिखने के लिए क्यों प्रेरित हुईं इस बात को उनके पति परितोष बनर्जी से जोड़ा जाता है।

अपने पति के होमोसेक्सुअलिटी ने ही उन्हें इस विषय पर भारतीय संदर्भ में लिखने के लिए प्रेरित किया, और भारतीय परिपेक्ष्य में इस विषय पर पहली किताब लिखी जा सकी।

इस किताब को रिव्यू करते हुए सालिक अंसारी ने कहा था कि ये किताब अपने वक्त से काफी आगे की किताब थी।

आप फर्ज कीजिये कि 1977 के भारतीय समाज में होमोसेक्सुअलिटी के बारे में बात करना आसान रहा होगा? और उस वक्त एक किताब लिख पाना अपने वक्त के आगे की कहानी ही कहती है।

हालाँकि, अब भारतीय समाज में इस विषय पर बात भी हो रही है और सिनेमा भी बन रहा है। उदाहरण के तौर पर पिछले दिनो आई फिल्म “शुभ मंगल ज्यादा सावधान” लिया जा सकता है।

अच्छी चल रही है फिल्म शकुंतला देवी

विद्या बालन ने शकुंतला देवी की भूमिका निभाई है, और अनु मेनन और नयनिका महतानी नें मिलकर इसकी पटकथा लिखी है, और डायरेक्ट भी अनु मेनन ने ही किया है। कोरोना की वजह से आजकल फिल्मों को ओटीटी प्लेटफार्म पर रिलीज करने का चलन बढ़ गया है तो फिल्म की रिलीज हो रही अमेजन प्राइम पर।

फिल्म में विद्या बालन की एक्टिंग सराही जा रही है और फिल्म को दर्शक काफी पसंद भी कर रहे हैं.