Wednesday, October 28, 2020
Tags Cinema

Tag: Cinema

किसानों की दशा पर कड़ी टिप्पणी जैसी है फिल्म कड़वी हवा,...

फ़िल्मः कड़वी हवा निर्देशकः नील माधब पांडा लेखकः नितिन दीक्षित कलाकारः संजय मिश्रा, रणवीर शौरी, तिलोत्तमा शोम, भूपेश सिंह हिंदुस्तानी सिनेमा में जलवायु परिवर्तन का विषय तकरीबन अछूता है....

मैथिली सिनेमाः इंतजार की घड़ी हुई खत्म, गांधी जयंती को रिलीज...

63वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में सर्वश्रेष्ठ मैथिली फिल्म का पुरस्कार जीत चुकी ‛मिथिला मखान’ 2 अक्टूबर को रिलीज होगी। मिथिला मखान के फेसबुक पेज...

शैलेंद्र की मौत पर राज कपूर ने कहा, दिल का सितारा...

शैलेन्द्र के निधन पर शो मैन राजकपूर के उद्गारः (अंग्रेजी से अनुवादः सैयद एस. तौहीद) दिल का एक सितारा चला गया है। ठीक नहीं हुआ। आपके...

मधुमती, बंदिनी, और बेनजीरः बिमल रॉय की विरासत पर छूट-से गए...

आज अगर बिमल राय सरीखे फिल्मकार जिन्दा होते तो फिल्मी दुनिया के हालात से थोडा नाखुश जरूर होते। सीनियर लोगों की विरासत को जिन्दा...

पुण्यतिथि विशेषः मध्यवर्गीय संवेदनाओं के संवेदनशील चितेरे हृषिकेश मुखर्जी

मध्यवर्गीय मनोदशाओं संवेदनाओं के संवेदनशील व सशक्त प्रवक्ता ऋषिकेश मुखर्जी हिंदी सिनेमा में विशेष महत्व रखते हैं. सामान्य मुख्यधारा से एक स्तर ऊंचा मुकाम रखती है...

मैथिली सिनेमाः मखाने के जीआइ टैगिंग पर दुखी मिथिलावासी ‘मिथिला मखान’...

मखाने को ‛बिहार मखाना’ के नाम से जीआइ टैगिंग के खिलाफ मिथिला क्षेत्र के निवासियों और प्रवासियों में जबरदस्त आक्रोश दिख रहा है. उनका...

‘ममता गाबय गीत’ के कलाकारों ने याद किये फ़िल्म से जुड़े...

'ममता गाबय गीत' बिला शक मैथिली की पहली शुरू हुई फिल्म थी. पर तकनीकी तौर पर देखा जाए तो यह तीसरी फिल्म है। फिल्म...

मैथिली सिनेमाः कैसे पहली मैथिली फिल्म बन गई तीसरी प्रदर्शित फिल्म

मैथिली फिल्म 'ममता गाबय गीत' का निर्माण साठ के दशक की शुरुआत में शुरु हुआ था. 1962-63 में 'ममता गाबय गीत' का निर्माण शुरू हुआ...

फ्लैश बैकः मधुमती अपने जमाने के सबसे प्रतिभावान लोगों के रचनात्मकता...

मैंने तय किया था कि नामी-गिरामी हिंदी फिल्में देखूंगा. इस कड़ी में मैंने पहली फिल्म हिंदी सिनेमा की पहली ब्लॉक बस्टर 'किस्मत' देखी थी....

फ्लैश बैकः कोशिश में गुलज़ार का सर्वश्रेष्ठ निर्देशन और संजीव कुमार...

मूक-बधिर या विकलांग लोगों की कहानियां सिनेमा में अति नाटकीयता, दुखड़े के साथ गैर-ज़रूरी राग-विलाप समेटे हुए रहती हैं. आपने इन्हीं कुछ फिल्मों के...