Tuesday, August 3, 2021
Tags Literature

Tag: Literature

भारतेंदु और जिगर: अदब की नदी के दो किनारे, एक इधर-एक...

  नौ सितंबर अपने आप में बड़ा खूब दिन है। भाषा, साहित्य, थियेटर, सिनेमा, पत्रकारिता हर एक पक्ष के लिहाज़ से। लेकिन अफ़सोस ये है...

विरासतः राजिन्दर सिंह बेदी की एक चादर मैली सी

राजिन्दर सिंह बेदी सियालकोट में पैदा हुए थे. लेकिन उनका पालन-पोषण और शिक्षा लाहौर में हुई. डी.ए.वी. कॉलेज लाहौर से 1933 में एफ.ए. करने के...

उर्दू शायरी की मकबूल शख्सियत अहमद फराज़

उर्दू शायरी की मकबूल शख्सियत अहमद फराज़ अदब के नुमाया सितारे थे। शायरी को इज़हार का सरमाया बनाने वाले फराज़ में कारगर कलामों की ...

स्मृतिशेष राहत इंदौरीः अल्लाह ने फरिश्तों को शायरी का हुनर अता...

हर एक हर्फ़ से चिंगारियां निकलती हैं, कलेजा चाहिए अख़बार देखने के लिए ये अख़बारनवीसी भी क्या पेशा है कि आप दो पल ठहरकर फ़र्सत से...

स्मृतिशेषः जनाज़े पर मिरे लिख देना यारो, मोहब्बत करने वाला जा...

राहत इंदौरी नहीं रहे. मोहब्बत की शायरी हो या बग़ावत की शायरी. नौजवानों के दिल में जगह बनाकर महफिल जमा देने वाले राहत साहब...

पुस्तक समीक्षाः एक थे फूफा संभावनाशील औपन्यासिक कथानक वाली लंबी कहानी...

एक थे फूफा, एक फूफा का रसदार ब्यौरा है जो एकदम भदेस किरदार हैं. अस्पष्ट से ब्यौरों के बीच उनके बचपन से लेकर वर्तमान...

पुस्तक समीक्षाः साहित्य के क्षेत्र में आ रहे लोकतंत्र का संकेत...

नई वाली हिंदी या सबकी वाली हिंदी के ज़माने में कुछ अहम बातें हुई हैं. पहली बात तो यही कि बदले ज़माने में हिंदी में नई...